Home | About CGTMSE | | Eligibility Criteria | Fees | Claims Settlement  | Circulars | Tenders | Search
   
Chairman's Message
Securitisation
FAQ s
List Of Member Lending Instiutions
News
Important Links
Site Map
Right to Information
Contact Us
   
 
Lamp

 

अपनी स्थापना से 17 वर्ष के जीवनकाल में सूक्ष्म एवं लघु उद्यम क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (सीजीटीएमएसई) ने स्वयं को सूक्ष्म एवं लघु उद्यम क्षेत्र की इकाइयों को संपार्श्विक प्रतिभूति से मुक्त ऋण उपलब्ध कराने में मददगार संस्था के रूप में सुस्थापित किया है।

ट्रस्ट ने वित्तवर्ष 2016-17 में 125000 करोड़ से अधिक के कुल ऋण के प्रति 25 लाख से अधिक गारंटियों का अनुमोदन प्रदान कर एक महत्त्वपूर्ण मील का पत्थर पार किया है। सीजीटीएमएसई ने इस स्तर तक पहुँचने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया है और इसके समस्त परिचालन अब ऑनलाइन हैं। अपनी परिचालनगत प्रक्रियाओं में सुधार करने तथा अपनी सदस्य ऋणदात्री संस्थाओं को बेहतर सेवाएँ उपलब्ध कराने के लिए, ट्र्स्ट ने अपनी प्रौद्योगिकी और अधिक उन्नत बनाई है, ताकि दक्षता बढ़ाई जा सके और ग्राहक सेवा बेहतर की जा सके।

वित्तवर्ष 2016-17 के दौरान, ट्रस्ट ने 19,931 करोड़ की राशि के कुल 4,52,127 गारंटी अनुमोदन दिए। संचयी रूप में, 31 मार्च, 2017 तक, 27,72,744 खातों के लिए 1,28,787 करोड़ के गारंटी अनुमोदन दिए गए।

यह ध्यान देने योग्य है कि एमएसई क्षेत्र के लिए ऋण की उपलब्धता पर सीजीटीएमएसई का सकारात्मक प्रभाव स्वीकार करते हुए, भारत सरकार ने इसकी समूह-निधि के प्रति प्रतिबद्धता मौजूदा 2,500 करोड़ से बढ़ाकर 7,500 करोड़ कर दी है। ट्रस्ट की 5,000 करोड़ की अतिरिक्त प्रतिबद्ध समूह-निधि का अंशदान पूर्णत: भारत सरकार करेगी।

सीजीटीएमएसई सदैव ही क्षेत्र की ज़रूरतों के प्रति सजग और सक्रिय रहा है। 31 दिसंबर, 2016 को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में भारत के माननीय प्रधानमंत्री द्वारा की गई घोषणा के परिणामस्वरूप, ट्रस्ट ने अपनी ऋण गारंटी योजना की पहुँच बढ़ाने के उद्देश्य से प्रति उधारकर्ता गारंटी सुरक्षा के लिए पात्र ऋण राशि 100 लाख से बढ़ाकर 200 लाख कर दी। एसएमई क्षेत्र की सेवा में अपनी पहुँच के विस्तार के उपाय के रूप में, ट्रस्ट ने चुनिंदा गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों के लिए नए गारंटी उत्पाद तैयार किए।

सीजीटीएमएसई पूरे विश्व में समान गतिविधियों में संलग्न संस्थाओं के बीच विचारों और अनुभवों के आदान-प्रदान को सदैव प्रोत्साहन देता रहा है। वर्ष के दौरान, ट्रस्ट ने एशियन क्रेडिट सप्लीमेंटेशन इंस्टीट्यूशन कॉन्फ़ेडरेशन (एसीएसआईसी) के सदस्यों के साथ सक्रिय विचार-विनिमय किया। एसीएसआईसी की सदस्य और इंडोनेशिया में राज्य के स्वामित्व वाली सबसे बड़ी अल्प ऋण गारंटी कंपनी "जामक्रिंडों" के एक दल तथा इंडोनेशिया के व्यापार मंत्रालय एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के अन्य प्रतिनिधियों ने अनुभव बाँटने के उद्देश्य से सीजीटीएमएसई का दौरा किया। जामक्रिंडों के साथ एक समझौता ज्ञापन निष्पादित किया गया, ताकि भविष्य में भी नियमित रूप से सार्थक विचार-विनिमय होता रहे और सर्वोत्तम प्रथाओं का आदान-प्रदान हो सके।

प्राथमिक ऋणदात्री संस्थाओं के अधिकारियों में बेहतर समझ विकसित करने तथा प्राथमिक ऋणदात्री संस्थाओं के परिचालन अधिकारियों को योजना के पहलुओं से परिचित कराने के अपने कार्य के हिस्से के रूप में, सीजीटीएमएसई ने विभिन्न केंद्रों पर अपनी सदस्य प्राथमिक ऋणदात्री संस्थाओं के अधिकारियों के लिए 14 जागरूकता कार्यशालाएँ आयोजित कीं। यह एक सतत कार्यक्रम है। 

मुझे आशा है कि वित्तीय परिवेश में सीजीटीएमएसई द्वारा निभाई जा रही समर्थकारक की भूमिका नई पीढ़ी के उद्यमियों को उनकी उद्यम यात्रा में लाभान्वित करती रहेगी। सीजीटीएमएसई की यह भूमिका भारत सरकार, भारतीय रिज़र्व बैंक, भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक, समस्त सदस्य प्राथमिक ऋणदात्री संस्थाओं तथा अन्य राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय भागीदार एजेंसियों के समर्थन एवं सक्रिय सहयोग के बिना कदापि संभव नहीं हो सकती थी। सभी हितधारकों के समर्पित सहयोग के लिए मैं उनकी सराहना करता हूँ। मुझे दृढ़ विश्वास है कि इनके सतत एवं सक्रिय सहयोग से सीजीटीएमएसई नई ऊँचाइयों तक पहुँचेगा।

सादर,

मोहम्मद मुस्तफ़ा, भा.प्र.से.

अध्यक्ष, सीजीटीएमएसई

स्थान: मुंबई

दिनांक: 22 सितंबर 2017

 

 

Credit Guarantee Fund Trust for Micro and Small Enterprises (CGTMSE), has established itself as an important institution in facilitating flow of collateral free credit to units in micro and small enterprise (MSE) sector in the last 17 years of its existence.  


The Trust crossed an important milestones in FY 2016-17 by recording cumulative guarantee approvals of over 25 lakh with an aggregate loan amount of over 1,25,000 crore. CGTMSE has leveraged technology to achieve this scale and the entire operations is carried out online. With a view to improving the operational processes and provide better service to its Member Lending Institutions (MLIs), the Trust further upgraded its technology for enhanced efficiency and better customer service.


During FY 2016-2017, a total of 4,52,127 guarantees have been approved for an amount of 19,931 crore. Cumulatively, as at March 31, 2017, a total of 27,72,744 accounts have been accorded guarantee approvals for 1,28,787 crore.

It is heartening to note that the positive impact that CGTMSE has had on credit flow to the MSE Sector has been recognized by the Government of India and the committed Corpus of the Trust has been enhanced from the present 2,500 crore to 7,500 crore. The additional committed Corpus of the Trust of 5,000 crore shall be fully contributed by the Govt. of India.


CGTMSE has always been responsive and pro-active to the needs of the sector. Consequent to the announcement made by the Hon'ble Prime Minister of India during the course of his address to the nation on December 31, 2016, to increase the reach of Credit Guarantee Scheme, the trust enhanced the eligible loan amount for guarantee cover per borrower from 100 lakh to 200 lakh.  The Trust also framed new guarantee product for select Non-Banking Finance Companies as a measure towards expanding its reach in serving the MSE sector.

CGTMSE has always encouraged sharing of views and experiences amongst institutions engaged in similar activities all over the world. During the year, The Trust had active interactions with the members of Asian Credit Supplementation Institution Confederation (ACSIC). A group consisting from JAMKRINDO, the largest state-owned micro credit guarantee company in Indonesia and a member of ACSIC, and other representatives from the Trade Ministry and Public Sector Enterprises of Indonesia visited CGTMSE for experience sharing. A Memorandum of Understanding (MoU) was also executed with JAMKRINDO with a view to have meaningful interactions on regular basis and exchange of best practices in future.

As part of its agenda to bring about better understanding amongst officials of MLIs and to familiarize the operating officials of the MLIs with the procedural aspects of the Scheme, CGTMSE conducted 14 awareness workshops for the officials of its Member Lending Institutions at various centres. This will be a continuing feature.


I am sanguine that the role played by CGTMSE, as an enabler in the financial eco-system will continue to benefit the new generation entrepreneurs in their entrepreneurial journey. This role played by CGTMSE would not have been possible without the active support and co-operation received from Government of India, Reserve Bank of India, Small Industries Development Bank of India, all Member Lending Institutions and other national and international partner agencies. I extend my sincere appreciation to all the stakeholders for their co-operation and firmly believe that with their continued active support, CGTMSE would continue to scale greater heights.

With regards,
Mohammad Mustafa, I.A.S.
Chairman, CGTMSE

Place: Mumbai
Date: September 22, 2017

 

 

 

 

Copyright © 2008 CGTMSE. Powered by GeoTel